Thu, 4 Aug 2022

हर घर तिरंगा कार्यक्रम के तहत WHRPC का बड़ा फैसला, 15 अगस्त तक 5100 तिरंगे झंडों का होगा घर-घर वितरण

muft khbr

भारत सरकार ने देश की आजादी की 75वीं वर्षगांठ पर हर घर तिरंगा प्रोग्राम का एलान किया है। जिसे देशभर में पूरा समर्थन भी मिल रहा है। इस प्रोग्राम के तहत 13 से 15 अगस्त के बीच 20 करोड़ घरों में तिरंगा फहराने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। इसी कड़ी में जाने-माने वैश्विक संस्थान वर्ल्ड ह्यूमन राइट्स एंड पीस कमीशन ने भी देशप्रेम की भावना से ओत-प्रोत होकर हर घर तिरंगा प्रोग्राम के समर्थन में एक बैठक का आयोजन किया।

बैठक में सर्वसम्मति से यह निर्णय लिया गया कि संस्थान की तरफ से भी हर घर तिरंगा अभियान को आगे बढ़ाया जाए और 5100 तिरंगे भारत के कई राज्यों में काफी सक्रिय तौर पर बांटने के लिए कहा गया। वहीं इस मौके पर लोगों को तिरंगे और इसकी महत्ता के बारे में जागरूक किया जाएगा।

इस मौके पर संस्था के फाउंडर जितेंद्र सिंह के साथ महासचिव जितेंद्र फौजदार, आईटी मैनेजर सतेन्द्र कुमार रावत, मीडिया सेल के नेशनल एक्जीक्यूटिव मेंबर विकास मलिक, दिल्ली से नेशनल एक्जीक्यूटिव मेंबर राहुल शौकीन, यूपी मीडिया प्रभारी दिनेश कुमार, दिल्ली मीडिया प्रभारी राजीव लयाल, हाथरस मीडिया प्रभारी राहुल जादौन समेत कई पदाधिकारी मौजूद रहे।

दरअसल वर्ल्ड ह्यूमन राइट्स एंड पीस कमीशन का उद्देश्य मानव अधिकार, शैक्षिक संसाधन, भ्रष्टाचार, बेरोजगारी, मानव उत्पीड़न, बाल श्रम, नशाखोरी, अमानवीय व्यवहार के साथ मानद डॉक्टरेट की डिग्री और गतिविधियां प्रदान करना है, जो समाज के हर स्तर पर मानव अधिकारों की सार्वभौमिक घोषणा के प्रसार और अपनाने में व्यक्तियों , शिक्षकों , संगठनों और सरकारी निकायों को सूचित , सहायता और एकजुट करती है।

वर्ल्ड ह्यूमन राइट्स एंड पीस कमीशन , भारत की स्थापना मानवाधिकार संरक्षण अधिनियम, 1882 के तहत संसद के एक अधिनियम द्वारा मानवाधिकारों के संरक्षण और संवर्धन के लिए की गई है। और यह वैश्विक संस्थान इसी दिशा में लगातार लोगों को जागरूक करते हुए मानवता के हित में कदम दर कदम आगे बढ़ता जा रहा है। संस्था मानव अधिकार और शांति के लिए इस समय 60 से ज्यादा देशों में काम कर रही है।