Sat, 7 Aug 2021

nuclear bomb-परमाणु बम को लेकर जाने रोचक तथ्य, हो जाएंगे हैरान ?

nuclear bomb-परमाणु बम को लेकर जाने रोचक तथ्य, हो जाएंगे हैरान ?

http://muftkhabar.com

nuclear bomb-परमाणु बम क्या है?

करीब सभी विकासशील देशों के पास अपनी सुरक्षा से संबंधित खतरनाक हथियार मौजूद हैं| जिनका इस्तेमाल वह या तो परीक्षण के तौर पर करते हैं या फिर दुश्मनों का खात्मा करने के लिए| इन्ही हथियारों की सूची में एक विशेष बम का नाम आता है जिस का नाम है “परमाणु बम”nuclear bomb-| किसी देश की ताकत का अंदाजा उसके पास परमाणु बमों से लगाया जा सकता है|

nuclear bomb- परमाणु बम होता क्या है?

परमाणु बम एक विस्फोटक हथियार है| परमाणु बम रूप से नाभकीय (नुक्लेअर) विखंडन ( फिशन) पर आधारित होते हैं| इस में हथियार में लगे हुए संवर्धित यूरेनियम या प्लटोनियम परमाणु के टूटने पर एक भारी मात्रा में ऊर्जा उत्पन्न होती है| इसी ऊर्जा से एक बड़े स्तर पर विनाश सम्पन्न होता है| इस बम का अविष्कार परमाणु बम के पिता कहे जाने वाले रोबर्ट ओप्पेन्हेइमर द्वारा किया गया था| दूसरे विश्व युद्ध के समय मैंनहट्न परियोजना के तहत काम करने वाले वैज्ञानिकों के एक दल ने इसमें मुख्य भूमिका निभाई थी व रोबर्ट इस प्रोजेक्ट के डायरेक्टर के रूप में कार्यबद्ध थे|

nuclear bomb-इस से होने वाला नुसकान

परमाणु बम से होने वाले नुकसान का अंदाजा इस कदर लगाया जा सकता है की अगर 15 किलोटन के 100 परमाणु बम धरती पर विस्फोट किये जाये तो आसमान पूरी तरह अंधरे की चपेट में आ जायेगा| सूरज द्वारा भेजी जाने वाली रौशनी धरती तक नहीं पहुंच पायेगी| लगभग आधी से ज्यादा ओज़ोन लेयर पूरी तरह से खत्म हो सकती है| इस के साथ ही इस तरह की जानलेवा बिमारियों का जन्म होगा की जिस से धरती पर मौजूद अनेक प्रजातियां पूरी तरह से नष्ट हो जाएँगी| इस के दुष्ट परिणाम भविष्य में भी देखने को मिलेंगे| इस के फटने के 100 सालों से ज्यादा तक इसके प्रभाव झेलने पड़ सकते हैं| यह इतना खतरनाक होता है जिस स्थान पर इस गिराया जायेगा उस स्थान पर मौजूद इंसान इसके फटने से पहले ही मर जायँगे| क्योंकि इस की आवाज इतनी दमदार होती है कि जिसे मानव शरीर नहीं झेल सकता है| परमाणु बम की आवाज के बाद दूसरे नंबर पर  ज्वालामुखी की आवाज सबसे तेज होती है| आने वाली अगली पीढ़ी को भी इसका नुकसान झेलना पड़ता है क्योंकि वह विकलांग शरीर के साथ पैदा होते हैं और कुछ तो जन्म लेते ही मर जाते हैं| इस का प्रभाव समुद्र की निचली सतह तक को झेलना पड़ता है व समुद्री जीव पूरी तरह से नष्ट हो जाते हैं क्योंकि यह एक तरह की रेडिएशन को छोड़ता है जिस का असर हर जीवित वस्तु पर पड़ता है|

How to Improve Your Vision: 6 Safe and Natural Ways to Improve Your Vision.

अमेरिका ने किया इस्तेमाल

यूँ तो आम हथियारों की तरह इसका इस्तेमाल करना ना के बराबर है| इस के इतेमाल के लिए विश्व स्तर पर नियम कायदे भी बनाये गए हैं| जिसे सभी मौजूदा परमाणु बम वाले देशों को मानना भी चाहिए|

अमेरिका केवल एक मात्र ऐसा देश है जिस ने अपने युद्ध के दौरान परमाणु बम का इस्तेमाल किया है| अमेरिका ने जापान के साथ युद्ध के समय में जापान के दक्षिण भाग के हिरोशिमा नामक शहर पर परमाणु बम को गिराया था| अमेरिका ने उस समय दो परमाणु बमों का इस्तेमाल किया था| जिस ने युद्ध की काया पलट दी थी| इस के फटने पर जापान को भारी नुकसान हुआ था| पहले बम के दौरान अनुमानित आंकड़े दर्शाते हैं की एक लाख चालीस हजार जापानी लोग मारे जा चुके थे| दूसरे बम ने जापान के नागासाकी शहर को पूरी तरह से तबाह कर दिया था| इस से तकरीबन 74,000 लोग मारे गए थे| इन परमाणु बमों ने जापान की अधिकतर इमारतों को तोड़ गिराया था व आसापास के सभी शहरों में संक्रमण फैल गया था|  जिस से लोगों की जानेलवा बीमारियों के चलते मृत्यु हो गयी थी|  लोगो की जीवित चलते फिरते शरीर मिनटों में ही बांप में तब्दील हो गए थे|  जब अमेरिका ने जापान पर परमाणु बम से हमला किया तो उस के बाद अंत में  जापान को हार स्वीकार करनी पड़ी थी| उस के बाद अमरीका शांत हुआ और युद्ध को रोका गया था| तब से  अब तक किसी भी अन्य देश ने युद्ध के लियाज़ से परमाणु बम का इस्तेमाल नहीं किया है |

इस खतरनाक बम से किसी का भी बचना वैसे तो नामुनकिन है क्योंकि इसे विशेष रूप से विनाश के लिए ही बनाया गया है| लेकिन विशेषज्ञों के अनुसार बताया जाता है की इस से कॉकरोच नहीं मरते हैं क्योंकि कॉकरोच में इंसानों की अपेक्षा ज्यादा संक्रमण सहने की शक्ति मौजूद है| इसी कारण कॉकरोचों पर इस का प्रभाव बहुत कम पड़ता है| इस के बाद चींटी भी एक ऐसा जीव है जिस के ऊपर परमाणु बम का असर बहुत कम होता है|