Thu, 16 Jun 2022

मूसेवाला हत्याकांड में बड़ा खुलासा:एक रसीद से शार्प शूटर्स तक पहुंची थी पंजाब पुलिस; और बोलेरो में मिला हरियाणा के पेट्रोल पंप का बिल

मूसेवाला हत्याकांड में बड़ा खुलासा:एक रसीद से शार्प शूटर्स तक पहुंची  थी  पंजाब पुलिस;   और  बोलेरो में मिला हरियाणा के पेट्रोल पंप का बिल

पुलिस ने इसी रसीद के बाद पड़ताल तेज की। मूसेवाला हत्याकांड का फोकस पंजाब के साथ हरियाणा पर किया। जिसके बाद वहां से कुछ संदिग्ध उठाए। जिनसे पूछताछ के बाद बोलेरो मुहैया कराने वाले पवन बिश्नोई और नसीब खान पकड़े गए। इस मामले में अब तक 10 आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है।

पंजाब पुलिस इन दोनों शार्प शूटर्स की तलाश कर रही है। यह दोनों मूसेवाला की हत्या में शामिल हो सकते हैं।
पंजाब पुलिस इन दोनों शार्प शूटर्स की तलाश कर रही है। यह दोनों मूसेवाला की हत्या में शामिल हो सकते हैं।
प्रियवर्त फौजी और अंकित सेरसा आए थे नजर
29 मई को मूसेवाला की हत्या के बाद पंजाब पुलिस हाथ-पांव मार रही थी। हालांकि, तुरंत कोई सुराग नहीं मिल रहा था। तभी पुलिस के हाथ शार्प शूटर्स की छोड़ी बोलेरो लगी। वह ऑल्टो में फरार हुए थे। बोलेरो से पुलिस को डीजल भरवाने की एक रसीद मिली। यह रसीद 25 मई की हरियाणा के फतेहाबाद के बीसला स्थित पेट्रोल पंप की थी। पंजाब पुलिस तुरंत वहां पहुंची। पुलिस ने 25 मई की CCTV फुटेज चेक की तो उसमें हरियाणा के बदमाश प्रियवर्त फौजी और अंकित सेरसा नजर आए।

पुलिस ने इसी रसीद के बाद पड़ताल तेज की। मूसेवाला हत्याकांड का फोकस पंजाब के साथ हरियाणा पर किया। जिसके बाद वहां से कुछ संदिग्ध उठाए। जिनसे पूछताछ के बाद बोलेरो मुहैया कराने वाले पवन बिश्नोई और नसीब खान पकड़े गए। इस मामले में अब तक 10 आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है।  पंजाब पुलिस इन दोनों शार्प शूटर्स की तलाश कर रही है। यह दोनों मूसेवाला की हत्या में शामिल हो सकते हैं। पंजाब पुलिस इन दोनों शार्प शूटर्स की तलाश कर रही है। यह दोनों मूसेवाला की हत्या में शामिल हो सकते हैं। प्रियवर्त फौजी और अंकित सेरसा आए थे नजर 29 मई को मूसेवाला की हत्या के बाद पंजाब पुलिस हाथ-पांव मार रही थी। हालांकि, तुरंत कोई सुराग नहीं मिल रहा था। तभी पुलिस के हाथ शार्प शूटर्स की छोड़ी बोलेरो लगी। वह ऑल्टो में फरार हुए थे। बोलेरो से पुलिस को डीजल भरवाने की एक रसीद मिली। यह रसीद 25 मई की हरियाणा के फतेहाबाद के बीसला स्थित पेट्रोल पंप की थी। पंजाब पुलिस तुरंत वहां पहुंची। पुलिस ने 25 मई की CCTV फुटेज चेक की तो उसमें हरियाणा के बदमाश प्रियवर्त फौजी और अंकित सेरसा नजर आए।  प्रियवर्त फौजी और अंकित सेरसा के साथ पंजाब पुलिस तरनतारन के रहने वाले मनप्रीत मन्नू और जगरूप रूपा की तलाश कर रही है। इन चारों के ही मूसेवाला को गोलियां मारने का शक है। प्रियवर्त फौजी और अंकित सेरसा के साथ पंजाब पुलिस तरनतारन के रहने वाले मनप्रीत मन्नू और जगरूप रूपा की तलाश कर रही है। इन चारों के ही मूसेवाला को गोलियां मारने का शक है। पुलिस को अब 4 शार्प शूटर्स की तलाश मूसेवाला हत्याकांड में अब पंजाब पुलिस को 4 शार्प शूटर्स की तलाश है। इनमें पहला हरियाणा के सोनीपत स्थित गांव गढ़ी सिसाना का प्रियवर्त फौजी है। दूसरा सोनीपत के सेरसा गांव का अंकित जांटी उर्फ अंकित सेरसा है। बाकी 2 शार्प शूटर मनप्रीत मन्नू और जगरूप सिंह रूपा हैं। इस मामले में दिल्ली पुलिस ने 8 शार्प शूटर बताए थे। इनमें से महाराष्ट्र के शार्प शूटर सौरव महाकाल और संतोष जाधव को पंजाब पुलिस अभी मूसेवाला की किलिंग में शामिल नहीं मान रही। यह दोनों गिरफ्तार हो चुके हैं।  पुलिस की स्टेटस रिपोर्ट, गिरफ्तार 10 आरोपियों का क्या रोल  संदीप केकड़ा : संदीप केकड़ा ने ही फैन बनकर मूसेवाला की रेकी की। फिर शार्प शूटर्स और विदेश में बैठे गैंगस्टर्स को पूरी जानकारी दी।  मनप्रीत मन्ना : जेल में बंद गैंगस्टर मनप्रीत मन्ना ने अपनी कोरोला गाड़ी को मनप्रीत भाऊ तक पहुंचाया था। जिसका इस्तेमाल शार्प शूटर्स ने मूसेवाला की हत्या में किया।  सराज मिंटू : जेल में बंद गैंगस्टर सराज मिंटू ने मनप्रीत भाऊ से संपर्क किया। उसने मनप्रीत को यह कोरोला गाड़ी आगे 2 बदमाशों को दी। यह दोनों शार्प शूटर्स हो सकते हैं। सराज मिंटू गोल्डी बराड़ और सचिन थापन का करीबी है।  मनप्रीत भाऊ : मनप्रीत भाऊ ने मन्ना की भेजी कोरोला गाड़ी ली। फिर सराज मिंटू के कहने पर उसे आगे 2 बदमाशों तक पहुंचाया।  प्रभदीप पब्बी : प्रभदीप सिंह पब्बी ने गोल्डी बराड़ के 2 साथियों को पनाह दी। यह दोनों जनवरी 2022 में हरियाणा से आए थे। इन दोनों ने भी मूसेवाला के घर और आसपास के रास्तों की रेकी की थी। पब्बी का कोर्ट ने 3 दिन का रिमांड दिया है। पुलिस उससे शार्प शूटर्स के नाम-पते उगलवाएगी।  मोनू डागर : मोनू डागर ने गोल्डी बराड़ के कहने पर 2 शूटर उपलब्ध कराए। फिर उन्हें शूटर्स की टीम बनाने में मदद की। जिन्होंने बाद में मूसेवाला की हत्या की।  पवन बिश्नोई और नसीब : इन दोनों ने मूसेवाला की हत्या करने वाले शार्प शूटर्स तक बोलेरो गाड़ी पहुंचाई। इसके अलावा इन शार्प शूटर्स को छुपने में भी मदद की।

प्रियवर्त फौजी और अंकित सेरसा के साथ पंजाब पुलिस तरनतारन के रहने वाले मनप्रीत मन्नू और जगरूप रूपा की तलाश कर रही है। इन चारों के ही मूसेवाला को गोलियां मारने का शक है।
प्रियवर्त फौजी और अंकित सेरसा के साथ पंजाब पुलिस तरनतारन के रहने वाले मनप्रीत मन्नू और जगरूप रूपा की तलाश कर रही है। इन चारों के ही मूसेवाला को गोलियां मारने का शक है।
पुलिस को अब 4 शार्प शूटर्स की तलाश
मूसेवाला हत्याकांड में अब पंजाब पुलिस को 4 शार्प शूटर्स की तलाश है। इनमें पहला हरियाणा के सोनीपत स्थित गांव गढ़ी सिसाना का प्रियवर्त फौजी है। दूसरा सोनीपत के सेरसा गांव का अंकित जांटी उर्फ अंकित सेरसा है। बाकी 2 शार्प शूटर मनप्रीत मन्नू और जगरूप सिंह रूपा हैं। इस मामले में दिल्ली पुलिस ने 8 शार्प शूटर बताए थे। इनमें से महाराष्ट्र के शार्प शूटर सौरव महाकाल और संतोष जाधव को पंजाब पुलिस अभी मूसेवाला की किलिंग में शामिल नहीं मान रही। यह दोनों गिरफ्तार हो चुके हैं।

पुलिस की स्टेटस रिपोर्ट, गिरफ्तार 10 आरोपियों का क्या रोल

संदीप केकड़ा : संदीप केकड़ा ने ही फैन बनकर मूसेवाला की रेकी की। फिर शार्प शूटर्स और विदेश में बैठे गैंगस्टर्स को पूरी जानकारी दी।

मनप्रीत मन्ना : जेल में बंद गैंगस्टर मनप्रीत मन्ना ने अपनी कोरोला गाड़ी को मनप्रीत भाऊ तक पहुंचाया था। जिसका इस्तेमाल शार्प शूटर्स ने मूसेवाला की हत्या में किया।

सराज मिंटू : जेल में बंद गैंगस्टर सराज मिंटू ने मनप्रीत भाऊ से संपर्क किया। उसने मनप्रीत को यह कोरोला गाड़ी आगे 2 बदमाशों को दी। यह दोनों शार्प शूटर्स हो सकते हैं। सराज मिंटू गोल्डी बराड़ और सचिन थापन का करीबी है।

मनप्रीत भाऊ : मनप्रीत भाऊ ने मन्ना की भेजी कोरोला गाड़ी ली। फिर सराज मिंटू के कहने पर उसे आगे 2 बदमाशों तक पहुंचाया।

प्रभदीप पब्बी : प्रभदीप सिंह पब्बी ने गोल्डी बराड़ के 2 साथियों को पनाह दी। यह दोनों जनवरी 2022 में हरियाणा से आए थे। इन दोनों ने भी मूसेवाला के घर और आसपास के रास्तों की रेकी की थी। पब्बी का कोर्ट ने 3 दिन का रिमांड दिया है। पुलिस उससे शार्प शूटर्स के नाम-पते उगलवाएगी।

मोनू डागर : मोनू डागर ने गोल्डी बराड़ के कहने पर 2 शूटर उपलब्ध कराए। फिर उन्हें शूटर्स की टीम बनाने में मदद की। जिन्होंने बाद में मूसेवाला की हत्या की।

पवन बिश्नोई और नसीब : इन दोनों ने मूसेवाला की हत्या करने वाले शार्प शूटर्स तक बोलेरो गाड़ी पहुंचाई। इसके अलावा इन शार्प शूटर्स को छुपने में भी मदद की।