Wed, 27 Jul 2022

CBI: पूर्व रेलमंत्री लालू यादव के तत्कालीन ओएसडी भोला यादव गिरफ्तार, कई ठिकानों पर छापेमार

CBI: पूर्व रेलमंत्री लालू यादव के तत्कालीन ओएसडी भोला यादव गिरफ्तार, कई ठिकानों पर छापेमारी

नई दिल्ली। केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो की टीम ने आज छापेमारी कर पूर्व रेलमंत्री लालू यादव के तत्कालीन ओएसडी भोला यादव व रेल के अन्य कर्मी जिसे प्रतिस्थापित के तौर पर नियुक्त किया गया था, को आज गिरफ्तार कर लिया।

सीबीआई को अनुसंधान के क्रम में यह जानकारी मिली कि पूर्व रेलमंत्री के ओएसडी 2005-2009 के दौरान प्रतिस्थापित की नियुक्ति में साजिश की। मामले में आगे आरोप है कि आरोपी प्रतिस्थापित की भूमि को रेलमंत्री के पारिवारिक सदस्यों के नाम ट्रांसफर करने के मामले का प्रबंधन देख रहे थे। साथ ही मामले में यह भी आरोप है कि इस आरोपी ने ऐसा करके अपने लिए भी इस अवधि में संपत्ति बनाई।

सीबीआई सूत्रों के मुताबिक आज की गई छापेमारी में चार ठिकानों को निशाना बनाया गया। ये सभी ठिकाने पटना व दरभंगा में स्थित हैं। खबर लिखे जाने तक उक्त दोनों आरोपियों को आज सक्षम न्यायालय में पेश किया गया है।

मामले में सीबीआई ने 18 फरवरी 2022 को मुकदमा दर्ज किया था। इसमें पूर्व रेलमंत्री के अलावा 15 अन्य अभियुक्तों में उनकी पत्नी राबड़ी देवी, दो बेटी व अन्य शामिल थे।

आरोप है कि रेलमंत्री लालू प्रसाद यादव ने 2004-2009 नौकरी देकर कई एकड़ जमीन की सौदेबाजी की। नौकरी का लाभ लेने वाले व्यक्तियों ने मंत्री के बच्चों के नाम अपनी जायदाद कर दी। इसमें लोगों को विभिन्न रेलवे जोनों में ग्रुप-डी के पदों पर नौकरी दी गई। आरोप यह भी लगे हैं कि इन लोगों ने अपनी भूमि लालू यादव के बच्चों या उनके बच्चों की कंपनियों को गिफ्ट के तौर पर दे दी। आरोप यह भी है कि इन पदों के लिए कोई वैकेंसी नहीं निकाली गई और बिना किसी आधार के इन्हें मुंबई, कोलकाता, जयपुर, जबलपुर व हाजीपुर जोन में नौकरी दे दी गई।

ऐसा करके लगभग 1,05,292 वर्ग फुट जमीन पटना में पांच सेल डीड व दो गिफ्ट डीड के माध्यम से हड़पी गई। इस मामले में पिछले 20 मई 2022 को दिल्ली, पटना व गोपालगंज जिले के 16 ठिकानों पर छापेमारी की गई। मामले के दो आरोपी भोला यादव व हृदयनारायण चौधरी हैं। मामले में जांच अभी भी जारी है।