Sun, 12 Jun 2022

राजस्थान: पुजारी हत्याकांड का खुलासा, 2000 सीसीटीवी कैमरों के फुटेज खंगाल आरोपियों को दबोचा

राजस्थान: पुजारी हत्याकांड का खुलासा, 2000 सीसीटीवी कैमरों के फुटेज खंगाल आरोपियों को दबोचा

बूंदी. राजस्थान के कोटा संभाग के बूंदी जिले में छह दिन पहले डोबरा महादेव मंदिर के पुजारी विवेकानंद शर्मा की हुई नृशंस हत्या (Pujari murder case) का पुलिस ने खुलासा कर दिया है. पुलिस ने मूर्ति चुराने और पुजारी की हत्या को अंजाम देने वाले तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है. आरोपियों ने मंदिर में स्थापित भगवान चारभुजा नाथ की मूर्ति (Lord Charbhuja Nath Idol) के करोड़ों रुपये की होने के लालच में उसने चुराया था. इस दौरान विरोध करने पर पुजारी को क्रूरतापूर्वक चाकू से गोदकर मार डाला था. पुलिस आरोपियों से गहनता से पूछताछ कर रही है. आरोपियों तक पहुंचने के लिये पुलिस की टीम ने पांच जिलों के करीब 2000 सीसीटीवी कैमरों के फुटेज खंगाले.

बूंदी पुलिस अधीक्षक जय यादव ने बताया डोबरा महादेव मंदिर में 6 जून को पुजारी विवेकानंद शर्मा की हत्या कर दी गई थी. वारदात के 6 दिन के भीतर पुजारी विवेकानंद शर्मा की नृशंस हत्या का खुलासा हो गया है. पुलिस ने इस मामले में मूर्ति चोर सोनू महावर, लोकेश श्रृंगी और बादल मेघवाल को गिरफ्तार किया है. आरोपियों ने नीलम पत्थर से बनी भगवान चारभुजा नाथ की मूर्ति के करोड़ों रुपये की होने के लालच में उसे चुराने का प्लान बनाया था. इसके लिये वे मंदिर पहुंचे. आरोपियों ने मूर्ति चुराने के दौरान विरोध करने पर पुजारी की हत्या करने की बात कबूल कर ली है. उनसे और पूछताछ की जा रही है.

अजमेर से पकड़े गये हत्यारे
उसके बाद अजमेर में दिल्ली निवासी मूर्ति खरीदार महिला का इंतजार करते हुए आरोपियों को पकड़ा गया है. पुलिस गिरफ्त में आये सोनू महावर, बादल मेघवाल और लोकेश श्रृंगी से कड़ी पूछताछ की जा रही है. उनसे चुराई गई मूर्ति और वारदात में काम में लिये गये चाकू को बरामद किया जायेगा. एसपी ने बताया कि पुजारी हत्याकांड का पर्दाफास करने वाले एसआईटी टीम के सदस्यों का सम्मानित किया जायेगा.