Tue, 17 Aug 2021

फैशन औऱ स्टाइल में आगे था कभी काबुल, इस अंदाज में रहती थी महिलाएं, जाने सच

फैशन औऱ स्टाइल में आगे था कभी काबुल, इस अंदाज में रहती थी महिलाएं, जाने सच

http://Muftkhabar.com

Afghanistan की राजधानी Kabul  इस समय तालिबान के कब्जे में है | वहां के राष्ट्रपति अशरफ गनी देश छोड़कर भाग चुके हैं और कहा ये जा रहा है कि, वे अमेरिका जाने की फिराक में हैं| अफगानिस्तान Afghanistanके ज्यादातर हिस्सों में तालिबान का नियंत्रण हो चुका है |

जिसके चलते ही अब अफगानिस्तान के लोग इस देश से दूर चले जाना चाहते हैं क्योंकि तालिबान के पिछले शासनकाल में महिलाओं की आजादी को निर्ममता से खत्म किया गया था| तालिबान ने सजा देने के इस्लामिक तौर तरीकों को लागू किया था| महिलाओं का अकेले निकलना बंद था| महिलाएं नौकरी नहीं कर सकती थी यहां तक कि बुर्का ना पहनने पर सरेआम पीटा जाता था |

फैशन औऱ स्टाइल में आगे था कभी काबुल, इस अंदाज में रहती थी महिलाएं, जाने सच

आप को बता दें कि अफगानिस्तान Afghanistanमें एक दौर ऐसा भी था जब इस देश में आधुनिकीकरण और संस्कृति का मिश्रण देखने को मिलता था| अमेरिका के नागरिक डॉक्टर बिल पोडलिच अपनी दो बेटियों और पत्नी के साथ साल 1967 में अफगानिस्तान Afghanistan आए थे और उन्होंने इस देश के कल्चर को काफी पसंद भी किया था| वे अक्सर अफगानी लाइफस्टायल की तस्वीरें क्लिक किया करते थे|

जहां बिल काबुल में मौजूद हाईर टीचर्स कॉलेज में में पढ़ाते थे, वही उनकी दोनों बेटियां काबुल में मौजूद अमेरिकन इंटरनेशनल स्कूल में पढ़ती थीं| बिल की बेटियों की तरह ही यहां कई इंटरनेशनल स्टूडेंट्स पढ़ते थे|

फैशन औऱ स्टाइल में आगे था कभी काबुल, इस अंदाज में रहती थी महिलाएं, जाने सच

इसके अलावा सैन जोस स्टेट यूनिवर्सिटी में इंजीनियरिंग प्रोफेसर मोहम्मद हुमायूं कयूमी ने भी अफगानिस्तान Afghanistan के बीते दौर की कई तस्वीरें खींची हैं| उनका जन्म काबुल में हुआ था और उन्होंने एक Photo-essay बुक लिखी है| इस किताब में अफगानिस्तान की उदारवादी लाइफस्टायल को देखा जा सकता है जब महिलाओं को घर से बाहर निकलने की आजादी थी| उनकी इस किताब का नाम वन्स अपॉन ए टाइम इन अफगानिस्तान Afghanistan है|

इस किताब में 1950, 60 और 70 के दशक के अफगानिस्तान को दिखाया गया है| इन तस्वीरों में देखा जा सकता है कि उस दौर में महिलाएं यूनिवर्सिटी लेवल की एजुकेशन प्राप्त कर सकती थीं| अपनी महिला दोस्तों के साथ बेझिझक घूम सकती थीं और पश्चिमी परिधान जैसे शॉर्ट स्कर्ट्स में भी घूम सकती थीं|

फैशन औऱ स्टाइल में आगे था कभी काबुल, इस अंदाज में रहती थी महिलाएं, जाने सच

इसके अलावा 50 प्रतिशत सरकारी कर्मचारी महिलाएं थीं और 40 प्रतिशत डॉक्टर्स भी महिलाएं ही थीं| हालांकि अफगानिस्तान में 1990 के दौर के बाद से चीजें बहुत तेजी से बदली हैं| अफगानिस्तान की एक मशहूर डायरेक्टर ने दुनिया के कई देशों से अपील की है कि तालिबान के आने के बाद अफगानिस्तान Afghanistan की महिलाओं के हालात बदतर होने वाले हैं इसलिए इस मुश्किल समय में उन्हें अकेला ना छोड़ा जाए|

Rashami Desai ने शावर के नीचे खिंचवाई फोटोस, हुई वायरल देखें