Thu, 23 Jun 2022

शिवसेना नेता एकनाथ शिंदे के नेतृत्व में शिवसेना गिनती लगातार बढ़ती जा रही है। शिंदे (Eknath Shinde) ने दावा किया कि

शिवसेना नेता एकनाथ शिंदे के नेतृत्व में शिवसेना  गिनती लगातार बढ़ती जा रही है। शिंदे (Eknath Shinde) ने दावा किया कि

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Cm Uddhav Thackeray) के नेतृत्व वाली महा विकास अघाड़ी (Maha Vikas Aghadi- एमवीए) सरकार गिरने के कगार पर है। पार्टी नेता एकनाथ शिंदे के नेतृत्व में शिवसेना के बागियों की गिनती लगातार बढ़ती जा रही है। शिंदे (Eknath Shinde) ने दावा किया कि अब तक कुल 48 विधायकों ने अपना समर्थन दिखाया है। इस बीच, शिवसेना नेता एकनाथ शिंदे के विद्रोह के बीच शीर्ष पद छोड़ने की पेशकश के कुछ घंटों बाद, सीएम उद्धव ठाकरे ने बुधवार रात दक्षिण मुंबई में अपना आधिकारिक आवास 'वर्षा' (Varsha) खाली कर दिया और उपनगरीय बांद्रा स्थित अपने निजी आवास 'मातोश्री' (Matoshree) चले गए हैं।

 
Live Updates...

शिवसेना नेता सीएम उद्धव ठाकरे के पारिवारिक आवास 'मातोश्री' पहुंचे

* महाराष्ट्र में राजनीतिक संकट के बीच शिवसेना नेता मुंबई में स्थित मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के पारिवारिक आवास 'मातोश्री' पहुंचे।

टीएमसी के कार्यकर्ताओं ने गुवाहाटी में रैडिसन ब्लू होटल के बाहर विरोध प्रदर्शन किया

टीएमसी के सदस्यों और कार्यकर्ताओं ने गुवाहाटी में रैडिसन ब्लू होटल के बाहर विरोध प्रदर्शन किया, जहां शिवसेना के एकनाथ शिंदे सहित महाराष्ट्र के बागी विधायक ठहरे हुए हैं। प्रदर्शन की अगुवाई पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष रिपुन बोरा कर रहे हैं।

संजय राउत बोले- जो ईडी के दबाव में पार्टी छोड़ता है वह बालासाहेब का भक्त नहीं हो सकता
शिवसेना नेता संजय राउत ने पत्रकारों से बातचीत के दौरान महाराष्ट्र राजनीति संकट पर कहा कि आज भी हमारी पार्टी मजबूत है। किस हालात और किस दबाव में उन लोगों ने हमारा साथ छोड़ा उसका खुलासा जल्द होगा। हमारे संपर्क में लगभग 20 विधायक हैं और जब वे मुंबई आएंगे तब इसका खुलासा होगा। जो ईडी के दबाव में पार्टी छोड़ता है वह बालासाहेब का भक्त नहीं हो सकता।

असम में अभी कुल 42 विधायक हैं

असम में अभी कुल 42 विधायक हैं। जिसमे से 38 शिवसेना, 3 स्वतंत्र और 1 प्रहार जनशक्ति पार्टी का विधायक शामिल है।

बागी विधायकों के साथ बैठक करेंगे शिंदे

शिवसेना नेता एकनाथ शिंदे और बागी विधायकों की सुबह करीब 10 बजे बैठक होगी. इस बैठक में आगे की रणनीति पर चर्चा की जाएगी। शिंदे समेत कुछ विधायकों के मुंबई लौटने और आगे बढ़ने पर फैसला लिया जा सकता है।
 
शिवसेना नेता एकनाथ शिंदे के बागी खेमे में 4 और विधायक शामिल

माहिम से शिवसेना विधायक सदा सर्वंकर, कुर्ला से शिवसेना के विधायक मंगेश कुंडलकर, सिंधुदुर्ग से शिवसेना के विधायक दीपक केसरकर और नागपुर से शिवसेना के विधायक आशीष जायसवाल आज सुबह तड़के असम के गुवाहटी पहुंचे। ये चारों विधायक एकनाथ शिंदे जिस होटल में ठहरे हैं वहां पहुंचे और उन्हें अपना समर्थन दिया। इसके आलावा तीन और विधायकों के पहुंची की खबर सामने आई है।

क्यों दिख रही है शिवसेना में बगावत?

शिवसेना नेता एकनाथ शिंदे और पार्टी के अन्य विधायकों के बगावत का एक कारण यह भी है कि राकांपा मजबूत हो रही है। बागी खेमे का मानना है कि पार्टी अपने क्षेत्र में चुनाव में हारे राकांपा नेताओं को ताकत दे रही है और शिवसेना के विधायकों को हाशिये पर धकेला जा रहा है. इसके पीछे मुख्य रूप से शरद पवार को जिम्मेदार माना जा रहा है. इन विधायकों का कहना है कि ऐसा लगता है कि शिवसेना के मालिक भी शरद पवार हो गए हैं।
 
दूसरा कारण आदित्य ठाकरे की कार्यशैली है। विधायकों का कहना है कि आदित्य ठाकरे खुद को शिवसेना का मुखिया मानते हैं और वैसा ही व्यवहार करते हैं. एकनाथ शिंदे गुट का मानना है कि 13 विधायकों को छोड़कर शिवसेना के सभी विधायक देर-सबेर यहां आएंगे। सूत्रों का कहना है कि एकनाथ शिंदे के कहने पर खुद नितिन देशमुख को गुवाहाटी एयरपोर्ट से वापस भेज दिया गया था। क्योंकि जब देशमुख सूरत से बागी विधायकों को लेकर गुवाहाटी पहुंचे तो वापस महाराष्ट्र जाने की बात करने लगे. जिसके बाद उन्हें कुछ देर एयरपोर्ट के लाउंज में बिठाया गया। जब देशमुख नहीं माने तो एकनाथ शिंदे ने कहा कि इससे पूरा मामला बिगड़ जाएगा। इसलिए नितिन देशमुख को वापस मुंबई भेज दिया गया।