Sat, 16 Jul 2022

Bundelkhand Expressway: 296 KM लंबाई, अब 6 घंटे में चित्रकूट से दिल्‍ली; PM मोदी आज देंगे बुंदेलखंड एक्‍सप्रेसवे की सौगात ​​​​​​

Bundelkhand Expressway: 296 KM लंबाई, अब 6 घंटे में चित्रकूट से दिल्‍ली; PM मोदी आज देंगे बुंदेलखंड एक्‍सप्रेसवे की सौगात

मिलेगी, क्योंकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार को जालौन जिले की उरई तहसील के कैथेरी गांव में बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे का उद्घाटन करेंगे. 296 किलोमीटर लंबे इस बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे का प्रधानमंत्री मोदी ने 29 फरवरी, 2020 को शिलान्यास किया था. इस एक्सप्रेसवे का काम 28 महीने के भीतर पूरा कर लिया गया है. पीएम मोदी के इस कार्यक्रम के लिए सुरक्षा की पूरी व्यवस्था कर ली गई है.

इस एक्सप्रेसवे से अब चित्रकूट से दिल्ली की दूरी महज 6 से 7 घंटे की रह जाएगी. यह बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे चित्रकूट, बांदा, महोबा, हमीरपुर, जलौन, इटावा होते हुए आगरा और लखनऊ को जोड़ेगा. बताया गया कि कुल 296 किलोमीटर लंबे इस चार लेन वाले एक्सप्रेसवे का निर्माण उत्तर प्रदेश एक्सप्रेसवेज औद्योगिक विकास प्राधिकरण (यूपीईआईडीए) के तत्वावधान में लगभग 14,850 करोड़ रुपये की लागत से किया गया है और आगे चलकर इसे छह लेन तक भी विस्तारित किया जा सकता है.

यह एक्सप्रेसवे चित्रकूट जिले में भरतकूप के पास गोंडा गांव में राष्ट्रीय राजमार्ग-35 से लेकर इटावा जिले के कुदरैल गांव तक फैला हुआ है, जहां यह आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे के साथ मिल जाता है. यह एक्सप्रेसवे सात जिलों यानी चित्रकूट, बांदा, महोबा, हमीरपुर, जालौन, औरैया और इटावा से होकर गुजरता है.

माना जा रहा है कि बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे इस इलाके की कनेक्टिविटी में सुधार के साथ-साथ आर्थिक विकास को भी बढ़ावा देगा, क्योंकि इससे स्थानीय लोगों के लिए रोजगार के ढेरों अवसर सृजित होंगे. बांदा और जालौन जिलों में इस एक्सप्रेसवे के समीप औद्योगिक कॉरिडोर बनाने का काम पहले ही शुरू हो चुकाहै. जालौन के पुलिस अधीक्षक रवि कुमार ने बताया कि प्रधानमंत्री मोदी के दौरे के मद्देनजर सुरक्षाकर्मियों द्वारा जिला मुख्यालय उरई के सभी होटल एवं रेस्टोरेंट पर सघन जांच पड़ताल अभियान चलाया जा रहा है.

पुलिस के मुताहबिक, लोकार्पण स्थल पर होने वाली जनसभा में सरकारी योजनाओं के लाभार्थियों को पहुंचने की सुविधा उपलब्ध करवाई जा रही है. इसके लिए ग्राम विकास अधिकारी, ग्राम प्रधान से लेकर अन्य उच्च अधिकारी भी तैयारी में लगे हैं. पुलिस की मानें तो लाभार्थियों को जनसभा स्थल पहुंचने में दिक्कत ना हो इस को ध्यान में रखकर पूरे जनपद की नगर पालिका एवं नगर पंचायत मुख्यालय पर भी रोडवेज की बसें उपलब्ध करवाई गई है. इसके अलावा ग्रामीण अंचल से लाभार्थियों को सभा स्थल पर ले जाने के लिए विकासखंड स्थल एवं ग्राम स्तर पर भी बसें पहुंचाई जा रही हैं.

8 नदियों से होकर जाता है एक्सप्रेसवे
इस बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे के निर्माण में 14,850 करोड़ रुपये खर्च हुए हैं. जिसकी लंम्बाई 296.07 किमी है. इस एक्सप्रेस-वे का निर्माण 8 नदियों बागेन, केन, श्यामा, चन्दावल, बिरमा, यमुना, बेतवा और सेंगर नदियों के ऊपर हुआ है.