Thu, 28 Jul 2022

Hanumangarh: हनुमानगढ़ में लगा दिया कर्फ्यू , इंटरनेट भी बंद, जाने पूरा मामला

Hanumangarh: हनुमानगढ़ में लगा दिया कर्फ्यू , इंटरनेट भी बंद, जाने पूरा मामला

हनुमानगढ़: राजस्थान में साम्प्रदायिक तनाव की आग बढ़ने लगी है। यहां करौली (Karauli), जोधपुर (jodhpur ) और भीलवाड़ा (Bhilwara) के बाद अब हनुमानगढ़ जिले के नोहर (Communal tension in Hanumangarh) में ऐसे ही हालात सामने आए हैं। यहां विश्व हिन्दू परिषद (vishv Hindu Parishad) के नेता पर जानलेवा हमला किया गया है। इस नेता की हालत गंभीर होने पर उसे बीकानेर (Bikaner) के लिए रेफर कर दिया गया।

दरअसल, हनुमानगढ़ के चिड़िया गांधी में ईद पर गोकशी का मामला सामने आया था. हालांकि, शुरुआत में प्रशासन का कहना था कि गांव में गोकशी नहीं हुई है. हालांकि, बाद में पुलिस ने मौके पर मिले मांस की जांच के लिए लैब भेजा था. FSL रिपोर्ट में गोकशी की पुष्टि हुई है.
वहीं, FSL रिपोर्ट आने के बाद गांव वालों ने आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर विरोध प्रदर्शन किया. इस दौरान पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच झड़प भी हुई. इलाके में सांप्रदायिक तनाव भी फैल गया. इसके बाद पुलिस ने इलाके में कर्फ्यू लगा दिया है. साथ ही इंटरनेट बंद कर दिया गया. प्रशासन ने हनुमानगढ़ के चिड़िया गांधी पंचायत और गांधी बाड़ी क्षेत्र में अगले आदेश तक कर्फ्यू लगा दिया है.

पुलिस आरोपियों की तलाश में जुटी
मामले के अनुसार रात्रि को नोहर के रामदेव मंदिर के पास कुछ युवकों की ओर से लड़कियों से छेड़छाड़ होने की सूचना मिली थी। इस पर विश्व हिंदू परिषद के नेता वहां पहुंचे थे। इसके बाद जब उन युवकों से पूछताछ की, तो उन 7 से 8 युवकों ने उन पर लोहे की रोड से जानलेवा हमला बोल दिया। इसके बाद तनाव फैल गया और आक्रोशित लोगों ने सड़क को भी जाम कर दिया। मौके पर पहुंची पुलिस ने समझाइश कर जाम खुलवाया। इस मामले में पुलिस की ओर से दो लोगो को राउंड अप करने की बात भी सामने आ रही है।

पुलिस के मुताबिक, मामले में चार आरोपी फारुख, अनवर, अमीन खान और सिकंदर खान को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है. सभी गोकशी से जुड़ी धाराएं लगाई गई हैं. हनुमानगढ़ में 21 जुलाई को ईद के बाद से सांप्रदायिक तनाव है.

राजस्थान में लगातार सांप्रदायिक तनाव की खबरें आ रही हैं. इससे पहले राजस्थान के भीलवाड़ा में युवक की हत्या के बाद तनाव फैल गया था. इतना ही नहीं हनुमानगढ़ में भी मई में विश्व हिंदू परिषद (VHP) के स्थानीय नेता पर हमले के बाद जमकर विरोध प्रदर्शन हुआ था. जोधपुर में ईद के मौके पर झंडे लगाने को लेकर दो समुदाय भिड़ गए थे. इसमें 30 के करीब लोग घायल हो गए थे. इसके बाद इलाके में कर्फ्यू लगा दिया गया था. इंटरनेट भी बंद किया गया था.