FACTS Fashion Fitness HEALTH Life Style NEWS Uncategorized

क्या आप भी खाते हैं पेरासिटामोल, तो जान लें सही तरीका, नहीं तो होगा नुकसान

पेरासिटामोल दर्द का इलाज करने और तेज़ बुख़ार को कम करने के लिए व्यापक रूप से इस्तेमाल की जाने वाली ओवर-द-काउंटर दवा है। सिरदर्द हो, दांत दर्द, मोच या फिर सर्दी और फ्लू ही क्यों न हो, यह एक ऐसी दवा है जो इन सभी स्वास्थ्य चिंताओं से तुरंत राहत दिलाने का काम करती है। महामारी के दौरान बुख़ार को कम करने के लिए पेरासिटामोल का उपयोग और भी बढ़ गया है।

इसे एसिटामिनोफेन के नाम से भी जाना जाता है, यह दवा इबुप्रोफेन से हल्की होती है और सिर्फ हल्के बुख़ार और मध्यम दर्द के इलाज के लिए काम कर सकती है। फिर भी इसे अधिक मात्रा में लेने या फिर ग़लत ड्रिंक के साथ लेने से गंभीर दुष्प्रभाव हो सकते हैं और यहां तक ​​कि आपके जीवन के लिए ख़तरा भी पैदा कर सकते हैं।

किन ड्रिंक्स से रहना चाहिए दूर

हर दवा अलग तरह से काम करती है और सेहत पर इसका असर भी कम होता है। इसलिए जब डॉक्टर आपको दवाएं सुझाते हैं, तो उनसे यह भी पूछना चाहिए इन्हें किस तरह खाना है। कुछ दवाओं को खाली पेट लेने की सलाह दी जाती है, तो कुछ को दूध के साथ क्योंकि वे गर्म होती हैं और पेट पर असर कर सकती हैं। जहां तक पेरासिटामोल का सवाल है, तो इसके साथ सिर्फ एक ड्रिंक से दूरी बनानी होती है और वह है शराब!

शराब से क्यों दूरी ज़रूरी है?

शराब में इथेनॉल होता है। पेरासिटामोल को इथेनॉल के साथ मिलाने से मतली, उल्टी, सिरदर्द, बेहोशी या समन्वय की हानि हो सकती है। हैंगओवर से छुटकारा पाने के लिए रात भर भारी शराब पीने के बाद पैरासिटामोल का सेवन आपको गंभीर खतरे में डाल सकता है। इन दोनों का साथ सेवन आपके लीवर में टॉक्सिन्स को बढ़ा सकता है, जिससे जान भी जा सकती है। इसके अलावा शराब दवा के असर को भी कम करने के लिए जानी जाती है।

न सिर्फ पेरासिटामोल बल्कि शराब के साथ किसी भी दवा को लेने से नुकसान हो सकते हैं। जब भी आप केमिस्ट से दवा लें, उनसे पूछें कि इसके साथ किन चीज़ों न नहीं ले सकते हैं।

हालांकि पेरासिटामोल एक हल्की दवा है, लेकिन फिर भी इसका सेवन सीमित रहना चाहिए। वयस्कों के लिए, प्रति खुराक 1 ग्राम पेरासिटामोल और प्रति दिन 4 ग्राम (4000 मिलीग्राम) खपत के लिए सुरक्षित है। इससे ज़्यादा लेने से लीवर की विषाक्तता हो सकती है। अगर आप रोज़ाना एल्कोहल की 3 ड्रिंक लेते हैं, तो डॉक्टर की सलाह के बाद 2 ग्राम से ज़्यादा पैरासिटामोल न लें। दो साल से ज़्यादा उम्र के बच्चों को पेरासिटामोल देने से पहले डॉक्टर से सलाह करें।

यदि आप तरल पेरासिटामोल ले रहे हैं, तो मात्रा को मापें। तरल दवा की अधिक मात्रा लोगों द्वारा की जाने वाली सामान्य गलतियों में से एक है। चबाने वाली टैबलेट को निगलने से पहले अच्छी तरह चबाएं। चाहे आप पेरासिटामोल को सीमित मात्रा में ले रहे हों, लेकिन इसे फिर भी रोज़ाना न लें।

 

Related posts

Solve your hair growth problem with these few simple yoga Asanas

admin

Mystery cupbord found in Shilpa Shetty’s husbands Raj Kundra’s office

admin

नोरा फतेही की ब्लैक बिकिनी में हॉट लुक, देखें आप भी

admin

Leave a Comment