Fri, 5 Aug 2022

Today: पेट्रोल-डीजल पर मिल सकती है राहत, 94 डॉलर तक गिरा कच्चा तेल, ये हैं ताजा रेट

Today: पेट्रोल-डीजल पर मिल सकती है राहत, 94 डॉलर तक गिरा कच्चा तेल, ये हैं ताजा रेट

 


देश में जल्द पेट्रोल-डीजल की कीमतें (Petrol-Diesel Price) कम हो सकती हैं. ये दावा हम नहीं कर रहे, बल्कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल (Crude Oil) की कीमतों में आ रही गिरावट इस ओर इशारा कर रही है. बुधवार को क्रूड ऑयल फिसलकर छह महीने के निचले स्तर पर आ गया. ऐसे में ईंधन के दाम में राहत की उम्मीद बढ़ गई है.  

यहां पहुंच गई Crude की कीमतें

रॉयटर्स के मुताबिक, कच्चे तेल की कीमतें बुधवार को लगभग 4 फीसदी गिरकर अपने छह महीने के निचले स्तर पर आ गईं. अमेरिकी डाटा को देखें तो इसका बड़ा कारण पिछले हफ्ते कच्चे तेल और गैसोलीन के भंडार में अप्रत्याशित रूप से हुई वृद्धि रही. ब्रेंट क्रूड LCOc1 फ्यूचर्स 3.76 डॉलर या 3.7 फीसदी की गिरावट के साथ 96.78 डॉलर प्रति बैरल पर आ गया. यह 21 फरवरी के बाद से इसका सबसे निचला स्तर है.

WTI में आई इतनी गिरावट

वेस्ट टेक्सास इंटरमीडिएट (WTI) क्रूड CLc1 फ्यूचर्स 3.76 डॉलर या 4 फीसदी गिरकर 90.66 डॉलर पर आ गया, जो 10 फरवरी के बाद सबसे कम है. ऊर्जा सूचना प्रशासन ने कहा कि अमेरिकी कच्चे तेल की सूची पिछले हफ्ते तेजी से बढ़ी, क्योंकि निर्यात गिर गया और रिफाइनर ने रन कम कर दिए. जबकि गैसोलीन की मांग भी धीमी हो गई. 

ऐसे असर डालता है कच्चा तेल

भारत कच्चे तेल का बड़ा आयातक है और यह अपनी जरूरत का 85 फीसदी से ज्यादा बाहर से खरीदता है. आयातित कच्चे तेल की कीमत भारत को डॉलर (Dollar) में चुकानी होती है. ऐसे में कच्चे तेल की कीमत बढ़ने और डॉलर के मजबूत होने से घरेलू स्तर पर पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ने लगते हैं. विशेषज्ञों के अनुसार, अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अगर कच्चे तेल की कीमतों में एक डॉलर का इजाफा होता है, तो देश में पेट्रोल-डीजल का दाम 50 से 60 पैसे बढ़ जाता है. 

इतना सस्ता हो सकता है पेट्रोल-डीजल

विशेषज्ञों का कहना है कि बीते तीन महीने में MCX पर कच्चे तेल की कीमत करीब 18 फीसदी कम हुई. मार्च 2022 में इसने 139 डॉलर प्रति बैरल के उच्च स्तर को छुआ था. उन्होंने कहा कि कीमतों में अब आया बड़ा सुधार उन अर्थव्यवस्थाओं (Economy) के लिए अच्छा है, जो भारत की तरह ही कच्चे तेल का आयात (Crude Oil Import) कर रही हैं. विशेषज्ञ उम्मीद जता रहे हैं कि भारत में जल्द ही पेट्रोल और डीजल की कीमतें 3 से 5 रुपये तक कम हो सकती हैं.