Thu, 4 Aug 2022

मजदरी करने वाले के खाते में आए 3,500 करोड़ रुपये, खुसी में सारा दिन पी दारू, जानिए फिर क्या हुआ

मजदरी करने वाले के खाते में आए 3,500 करोड़ रुपये, खुसी में सारा दिन पी दारू, जानिए फिर क्या हुआ

दिनभर में मुश्किल से 700 रुपये कमा पाने वाले दिहाड़ी मजदूर के खाते में करोड़ों रुपये आने से वह खुशी के मारे झूम उठा. करोड़ों की रकम आने का स्क्रीनशॉट लेने के बाद मजदूर ने शराब पीकर जश्न मनाया. अगले दिन जब वह बैंक पहुंचा तो अपना खाता देखकर उसके होश उड़ गए.


उत्तर प्रदेश के कन्नौज जिले में छिबरामऊ इलाके के कमालपुर गांव में रहने वाले 45 वर्ष के बिहारी लाल दिहाड़ी मजदूर हैं. वह राजस्थान के एक ईंट भट्ठे पर ईंट पाथने का काम करते हैं. इस समय बारिश के चलते ईंट का काम बंद है और वह अपने गांव कमालपुर आए हुए हैं. उनके खाते में बीते रविवार को 2,700 करोड़ रुपये अचानक आ गए.


बिहारी लाल को कुछ पैसों की जरूरत थी तो वह बीते रविवार को नजदीकी बैंक मित्र के पास पहुंचे. बैंक मित्र ने जब बिहारी लाल का खाता देखा तो वह अवाक रह गया. उसने बिहारी लाल को बताया कि उसके खाते में 2,70,78,58,13,894 यानी 2,700 करोड़ से अधिक रकम है. यह सुनकर बिहारी लाल अचंभे में पड़ गए.


बैंक मित्र ने पुख्ता करने के लिए कई बार बिहारी लाल का अकाउंट रिफ्रेश करके चेक किया. लेकिन, रकम उतनी ही थी. उसने स्क्रीनशॉट लेकर बिहारी लाल को दे दिया और बैंक ऑफ इंडिया की शाखा में जाकर खाता अपडेट कराने की सलाह दी. इतनी रकम की बात जानकर मजदूर बिहारी लाल को सूझ ही नहीं रहा था कि वह क्या करे.


सोमवार को बैंक शाखा खुलने पर जाने की बात सोचकर वह घर पहुंचा. लेकिन, बैंक अकाउंट में इतनी रकम की खुशी वह पचा नहीं सका. रिपोर्ट के अनुसार खुशी में उसने जमकर शराब पी और सो गया. अगले दिन सोमवार की सुबह वह बैंक की शाखा पहुंचा को वहां अधिक भीड़ होने के कारण वह किसी बैंक कर्मचारी से बात नहीं कर सका और लौटकर गांव के बैंक मित्र के पास पहुंचा.


बिहारी लाल ने बैंक मित्र को खाता फिर से चेक करने को कहा. बैंक मित्र ने फिर से खाता चेक किया तो उसके होश उड़ गए. दरअसल, बिहारी लाला के खाते में आई 2,700 करोड़ से अधिक की रकम गायब हो चुकी थी. यह जानकर बिहारी लाल मायूस हो गया. कुछ घंटों में ही बिहारी लाल अरबपति से फिर मजदूर हो गया. उसके खाते में केवल 126 रुपये बचे थे. जानकारों ने बताया कि बैंक की लिखापढ़ी में गलती से रकम मजदूर के खाते में आ गई थी, जो बैंक की बैलेंस शीट अपडेट होती ही वापिस हो गई.